अपनी तकलीफ़ पर सवाल करें...

कई बार आप सवाल इसलिए करते हैं कि आप खुद से जद्दोजहद कर रहे होते हैं। मैंने भी 'मुल्क और मुसलमानों से जुड़े चंद सवाल' में मन को कुरेदते चंद सवाल आपके सामने रखे थे। इस सवाल पर ढाई आखर के पाठक दोस्तों में से कई ने अपनी राय जाहिर की है। कइयों की राय सवाल से जूझने और उसके जवाब तलाशने में मदद करती है तो कई दोस्त सवाल के जवाब में सवाल दागते रहे। कई ने इस विमर्श को मेरा और तेरा में बदलने की भी कोशिश की। बिना किसी भेदभाव के वे सभी टिप्पणियां आपके सामने पेश हैं-


avinash said...

ठीक ऐसा ही सवाल मेरे मन में भी आता है... और आपकी बातों से मेरे निष्‍कर्ष और मेरी समझ को सहायता मिली है। ... यानी ये समय इस तरह की चिंताओं के साझा करने का भी है- कि हम दरअसल कैसे मुल्‍क में जी रहे हैं? हम जिन राष्‍ट्रगीतों में अपने लिए देशभक्ति का पैमाना बचपन से खोजते रहे हैं- क्‍या होश आने पर उनका मानी बिगड़ जाता है? हमने कैसी सुरक्षा एजेंसियां, कैसा प्रधानमंत्री, कैसी सेना बनायी है, जो मुल्‍क को एक खास कौम की निगाह से पारिभाषित करते हैं? धमाका-विस्‍फोट या ऐसे किसी भी किस्‍म की दुर्घटनाएं मुल्‍क की अपनी कमज़ोरि‍यों का इज़हार होती हैं- ठीक उसी तरह जैसे गृहयुद्ध राष्‍ट्र की राजनीतिक बुनावट में कमज़ोरियों के चलते पैदा होते हैं। लेकिन चालाक-शातिर-सांप्रदायिक और (दरअसल कमज़ोर) व्‍यवस्‍था इसका ठीकरा किसी खास तबक़े पर फोड़ता है। इरादतन। दुनिया के तमाम इतिहा‍सों से उदाहरण उठा लीजिए। ग़ौरतलब ये भी है कि व्‍यवस्‍था की ऐसी मंशा को व्‍यापक जनसमुदाय का सहारा और समर्थन भी मिलता रहा है। खास तबक़े का सामूहिक क़त्‍लेआम कई व्‍यवस्‍थाओं ने करवाये हैं, लेकिन विराट मानवीयता ने हमेशा ऐसी व्‍यवस्‍था पर जीत हासिल की है। अपने देश में जो हो रहा है, कुछ कुछ ऐसे ही संदेश दे रहा है। आइए, हम सब ऐसी मंशाओं के खिलाफ युद्ध का एलान करें।

अभय तिवारी

सही सवाल.. इलाहाबाद में तो घर-घर में बम बनते थे.. कोई ६ साल का बच्चा भी बम लेके आप को दौड़ा सकता था.. सँभल के रहना पड़ता था.. वहाँ तो लोग आम बातचीत में कहते थे.. बीसन बम चली..दिनन धुँआ उड़ी..
जिन्हें तकलीफ़ होती हैं इन सवालों से वो अपनी तकलीफ़ पर सवाल करें...और तब तक सवाल करें जब तक सवालों के पीछे का सच नज़र आना शुरू न हो जाय..

अनुनाद सिंह

मुझे भी यही लग रहा है कि हिन्दूवादी शक्तियाँ इस देश को बर्बाद करने की अपनी योजना पर काम कर रहीं है क्योंकि इनको इस देश की मिट्टी से कभी लगाव नहीं रहा। भारत ही नहीं, पूरा संसार ही इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम करने पर तुला हुआ है।

संजय बेंगाणी

उद्दण्ड बालक की माँ को भी यही शिकायत करती है सब उसके बच्चे के ही पीछे क्यों पड़े रहते है?

विष्णु बैरागी

... कोई भी धर्म या समाज उसके अनुयायियों के सामान्‍य आचरण से ही जाना पहचाना जाता है। आपकी सारी बातें सच हैं लेकिन यह भी सच है कि इन स्थितियों के लिए मुसलमान ही सबसे ज्‍यादा (मुझे कहने दीजिए कि एकमात्र) दोषी हैं।
'संघ' परिवार, हिन्‍दू धर्म को संकीर्णता और नफरत का पर्याय बना देने पर चौबीसों घण्‍टे सक्रिय है। लेकिन इसका विरोध हिन्‍दू समाज ही सबसे ज्‍यादा कर रहा है। 'संघ' की मनमानियों के खिलाफ हिन्‍दू लोग ही सड़कों पर आते हैं। इसीलिए, संघ के निशाने पर केवल मुसलमान ही नहीं, वे तमाम हिन्‍दू भी हैं जो हिन्‍दू धर्म को उदार और सहिष्‍णु बनाए रखना चाहते हैं।
इसी प्रकार, हिन्‍दू धर्म के धर्म गुरुओं और पाखण्‍डी बाबाओं के विरोध में हिन्‍दू धर्म के अनुयायी ही आगे आते हैं। हिन्‍दू धर्म की विसंगतियों और कुरीतियों के विरूद्ध जो भी आन्‍दोलन चले, वे सब हिन्‍दुओं ने ही चलाए।
लेकिन यह सब इस्‍लाम मतावलम्बियों में अपवादस्‍वरूप भी नजर नहीं आता। कुठमुल्‍लाओं, मौलानाओं-मौलवियों की मूर्खताओं और मनमानियों से वे असहमत तो होते हैं लेकिन खुल कर बोलने की हिम्‍मत कितने लोग कर पाते हैं? मैं एक बीमा एजेण्‍ट हूं और मेरे परिचितों-मित्रों में इस्‍लाम मतावलम्‍बी बडी संख्‍या में है । ऐसी प्रत्‍येक मूर्खता पर वे मर्मान्‍तक स्‍तर पर पीडित होते हैं लेकिन जब उनसे खुलकर सामने आने की बात होती है तो वे (जी हां, प्राय- सबके सब) ठण्‍डी सांस भरकर, मन मसोस कर चुप रह जाते हैं ।
धर्म हिन्‍दू हो या मुस्लिम, सबका संकट एक ही है - सक्रिय दुर्जन, निष्क्रिय सज्‍जन। यह निष्क्रियता मुसलमानों में बहुत ज्‍यादा है।
...यदि आप उम्‍मीद करें कि आपकी परेशानी का हल कोई और निकाले तो क्षमा करें, यह उम्‍मीद जरूरी भले ही हो, वाजिब बिलकुल ही नहीं ।
मुसलमानों को देश के प्रति अपनी निष्‍ठा के प्रमाण देने की कोई आवश्‍यकता नहीं है। लेकिन ठीक समय पर चुप रहने और गलत समय पर बोलने से, नफरत के सौदागर कटृटरपंथी हिन्‍दुओं को 'प्रत्‍येक मुसलमान आतंकवादी नहीं है लेकिन प्रत्‍येक आतंकवादी मुसलमान जरूर है' जैसे घातक जुमले कहने के स्‍वर्णिम अवसर मिलते हैं।
मैं आपके साथ हूं और आपकी मदद भी करना चाहता हूं लेकिन सबसे पहले आपको ही खुद की मदद करनी होगी ।

Nasiruddin

प्रिय अनुनाद जी, आपकी बात समझने में मुझे थोड़ी दिक्कत होती है। आप ज़रा अपनी बात को विस्तार देते तो अच्छा रहता। रवीश की पोस्ट पर भी आपकी टिप्पणी आज तक मेरी समझ में नहीं आयी। वैसे मैं इतना कह सकता हूँ कि 'वो बात जिसका सारे फसाने में जिक्र न था, वो बात उन्हें बहुत नागवार गुज़री है।'

संजय जी, आप आये और अपने इस पोस्ट को टिप्पणी लायक समझा- इसके लिए शुक्रिया। उम्मीद है आपने पूरी पोस्ट पढ़ी होगी। इसमें शिकायत नहीं है, कुछ सवाल हैं, जो सिर्फ मेरे नहीं है। वैसे एक सवाल मैंने कुछ दिनों पहले एक पोस्ट 'बिछुड़ना एक भतीजे का अपनी चाची से' में भी किया था। उसके जवाब में भी इन सवालों के सूत्र मिलते। फिर भी शुक्रिया। आते रहियेगा।

विष्णु जी, इस टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया। आपने अहम सवाल उठाये हैं। आपके कुछ सवालों के जवाब, पोस्ट में दिये गये लिंक से मिल सकता है। जैसे आतंकवाद के खिलाफ उलमा के एक नहीं कई फतवे। ठीक उसी तरह से कई और मामले हैं।
हालांकि आपकी एक बात से मेरी असहमति है। यह बात मेरी कतई नहीं है। हम सब की है। मुल्क की है। इसलिए इस बात का हल भी हम सब को तलाशना होगा। भूमिकाएं अलग-अलग हो सकती हैं। मैं इस बात को किसी मज़हबी पहचान के तहत नहीं लिख रहा। इसीलिए इसका शीर्षक यह नहीं रखा... 'इस देश में मुसलमान होना...। मैंने इसका शीर्षक रखा... मुल्क और मुसलमानों से जुड़े चंद सवाल...। उम्मीद है आप मेरी बात समझ रहे होंगे। आपकी टिप्पणी में संवाद को आगे बढ़ाने के बीज मौजूद हैं। उम्मीद है संवाद होगा।

अंत में अभय जी की बात दोहराना चाहता हूँ, 'जिन्हें तकलीफ़ होती हैं इन सवालों से वो अपनी तकलीफ़ पर सवाल करें...और तब तक सवाल करें जब तक सवालों के पीछे का सच नज़र आना शुरू न हो जाय...'

Mired Mirage

ये सवाल उठाने पड़ रहे हैं यह खुद दुख की बात है । कोई मुझसे ३० साल पहले पूछता कि कभी ऐसी स्थिति भी आएगी तो मैं विश्वास न करती । या तो हमारे समाज में कुछ गलत चल रहा है या फिर हम कान के इतने कच्चे हो गए हैं कि हमारे पड़ोसी हमें बरगला सकते हैं। बिना और समय गंवाए इन विषयों पर चर्चा होनी चाहिये।
घुघूती बासूती

Debashish

मैं पहली बार आपको पढ़ रहा हूँ, बहुत बढ़िया लिखा है आपने। मैंने अभय के एक चिट्ठे पर एक बार ये लिखा था कि हमारे देश के हिंदूवादी संगठन और अधिकांश हिन्दू मानस विभाजन के लिये गाँधी को माफ नहीं कर सके और उसकी खीज मुसलमानों पर निकलती है। ये एलियनेशन 60 सालों से इस कदर बढ़ा है कि हिन्दू और मुसलमान में आपसी यकीन तो है ही नहीं। भारत का हर हिंदू जवानी के दहलीज़ पर कदम रखते रखते बचपने से से सुनी आ रही बातों पर यकीन करने लगता है (मसलन, हिंदू के घर में गाय भगाने के लिये लाठी भी नहीं होती और मुसलमान के बिस्तर के नीचे कटार छुपी रहती है)। ये अविश्वास सुरक्षा जैसे मुद्दों को आधार बनाकर बड़े योजनाबद्ध तरीके से बोये गये हैं, जनगणना के आँकड़ों को तक गलत ढंग से पेश कर तिल के ताड़ बनाये गये हैं। मैं भोपाल का वासी हूं और अक्सर ये बात कही जाती है कि मुसलमान पाकिस्तान का पक्ष लेते हैं, कुछ हद तक ये होते देखा भी है, पर हैरत यही रही कि 60 सालों में क्या वाकई इस मुल्क के शासन ने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे ये समुदाय, जिसने भारत के साथ रहना कबूल किया, को यहाँ अपनापन लगे। विष्णु की बात से सहमत हूं पर आखिरकार मुख्यधारा के मीडिया पर ये जोर क्यों नहीं पड़ता कि वो आतंकवाद के खिलाफ मुस्लिम विरोध को भी खबरों में तरजीह दे।

Nasiruddin

ये सवाल उठाने पड़ रहे हैं यह खुद दुख की बात है।... बिना और समय गंवाए इन विषयों पर चर्चा होनी चाहिये ।
घुघूती जी, इस पोस्ट का मकसद यही है कि हम सब मिलकर सोचें कि आखिर ऐसा क्या हो गया। आखिर ऐसा क्या हो गया जिसकी कल्पना घुघूती बासुती जैसे लोगों ने सालों पहले नहीं की थी।

देबाशीष जी, मेरे पोस्ट तक आने और अपनी बात रखने के लिए शुक्रिया। हम पढ़ लिख कर भी मिथकों और भ्रांतियों में जीते हैं। जनसंख्या और कटार का उदाहरण आपने दिया है।
... क्या वाकई इस मुल्क के शासन ने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे ये समुदाय, जिसने भारत के साथ रहना कबूल किया, को यहाँ अपनापन लगे।
देबाशीष जी 'ये समुदाय' यहीं के थे, ये जाते कहां। जो गये, उन्होंने एक दूसरा मुल्क चुना। और अपनापन लगने की जहां तक बात है, तो उसकी जिम्मेदारी सिर्फ शासन की नहीं है, समाज के हर सदस्य की है। हमारी-आपकी सबकी।
मिथकों और भ्रांतियों को तोड़ने में आप आगे भी अपनी भूमिका निभाते रहेंगे, यह उम्मीद है। एक बार फिर आप सब का शुक्रिया।

संजय बेंगाणी

इन दिनो मैं कुछ चिट्ठो पर जाने से बचता रहा हूँ, आपने शांति से मेरी बात सुनी इसके लिए धन्यवाद. हम और आप अपने अनुभव के आधार पर लिखते रहे हैं. मेरी विष्णु भाई के साथ शब्दसः सहमती है. मैने अपने आस-पास जो देखा उसी आधार पर.
रही बात मुस्लिम पर विश्वास की तो यकिन मानिये हिन्दु आज भी कलाम को प्रतिभा से ज्यादा पसन्द करते है, क्यों?

Nasiruddin

संजय जी, आप हर चीज़ को हिन्दू और मुसलमान में बांट कर क्यों देखते हैं। जब तक 'हम लोग' यानी मेरे मज़हब मानने वाले और 'वे लोग' यानी दूसरे मज़हब वाले- इस दायरे में सोचना का नज़रिया बना रहेगा, मुश्किल बनी रहेगी।
जहां तक कलाम की बात है, मैं उन्हें पसंद नहीं करता। मेरे लिए हिन्दू-मुसलमान से ज्यादा अहम ये है कि वे कहते या करते क्या हैं।
आपके ठीक बगल में गुलबर्ग सोसायटी भी है, जहां आपके पूर्व सांसद समेत साठ से ज्यादा लोग मार डाले गये थे। मैं देख कर आया हूँ, वो खूबसूरत कॉलोनी पांच साल बाद भी वीरान पड़ी है। कृपया अपने आस-पास में गुलबर्ग सोसायटी के लोगों को भी शामिल कर लीजिये। बहुत सुकून मिलेगा। अगर पूर्वग्रह से ऊपर उठकर संवाद करना चाहें तो हम आगे बात करते रहेंगे। शुक्रिया

Aminur

Assalam alekum,
Q1. Why is it, that even after receiving information about impending bomb blasts, security agencies are unable to stop them?

Security agencies are not supposed to stop them per se. They pass on the information to police and at times Police fails to react/act to these information.
When police acts sometimes, there is always a fear of the action being termed as "staged" encounter. e.g Encounter outside RSS HQ in Nagpur. We are not sure, whether police acted up to information by security agencies, or they "staged" an encounter, but there are people who claim it to be fake encounters.

Police at times, do act "without doing encounters" and they do find bombs at locations. e.g A couple of boms were found on Bomabi stations few months back. But until the bomb has exploded, it does not make "breaking/big news"

Imagine, out of 10000 informations coming to police, even in one case police fails, it REFLECTS big times.

Q2. How is it that, only minutes after a blast has occurred, security agencies are able to find the names and locations of the people responsible as well as their links and organizations?

Based on the information you were questioning in step 1. Police had information, but they failed to "react" to those information and blast occurred. Now they do reverse engineering to find out organisations.

Now ^^ this is an "IDEALISTIC" situation. At times police do take well "established" names just to get people off their back and then investigate (?) in background.

Q3. How is it that security agencies that find major clues soon after a blast, are unable to reach any conclusions in their investigations of the Malegaon, Samjhauta Express, or the Mumbai Train explosions even after months have passed, during which time scores of young lives are destroyed inside prison cells for years.

None of the case has yet been solved given the complexities of the case. We have seen how police neutrality has been questioned when they raided/questioned Madarsaas in Hyderabaad after the blast. Police action was driven by prejudice or not is another debate but they police action was being questioned

We have Human rights activities who don't allow (in principle) any atrocities on detainees.

Besides all these, these terrorists are not fools (or Bollywood heros aka dhoom style) that they will leave their "sign" after the blast, asking policmen "catch me if u can"

These are VERY VERY blind cases which police has to solve.

Q4. Even if one believes that there is some organization behind these blasts that is doing it in the name of Islam… then why are there explosions in Hyderabad, Varanasi, Malegaon and what are the people responsible for those attacks trying to achieve?

There is nothing like "even if". There are organizations which are indeed "misusing" the brand name of Islam. (They are behind these blasts or not, is not a question, but none of us will deny that their exist Organizations that wrongly work in the name of Islam)

And whoever be behind these blasts, Indian or foreigner, Muslim's or Hindu's, the soul intention is to disrupt peaceful environment of the country and to cause riots. Thats why they choose "special" religious occasions for these blasts. Be it Diwali in Delhi, Sabe qadr in Maalegaon or Onam in Hyderabaad.

Q5. Kashmiri militants want to liberate Kashmir by causing explosions there. Do these terrorists want to liberate Hyderabad and Malegaon?

First of all, its still not clear that they are Kashmiri millitants. Second thing, that while their fight is FOR kashmir, at the same time their fight is AGAINST India. And anything that will harm India will serve their purpose.

Our freedom fighter were not intented to free "legislative assembly" still they bombed the assembly to avenge death of Lala Lajpat rai.

Q6. When militancy was at its extreme in Kashmir, even then there were Islamic militants. Why didn't they conduct attacks in the rest of India then? What has changed that they are able to do it now?

Jab koi kaam insaan start karta hai to josh me hota hai. They could have thought that they will gain freedom without attacking other parts. Now since the freedom fight is subsiding, out of frustation they may be doing it. We are not sure. May be yes may be not

Q7. Terrorist organizations, i.e. Al-Qaida, Jaish-e-Mohammad and others like them do all this work and chose to work anonymously? Why? These organizations want people to be afraid of them. They are not legally registered organizations or follower of law… then why would they be afraid of taking responsibility of their actions?

So shall the investigation agencies Stop their work waiting for them to take responsibilities? Did Al qaida ever took responsibility of 9/11 or it was US who said that they did it?

Q8. Why is it that after every blast only people of one religion are arrested?

Not always but yes most of the time. May be because the police DONT trust them. or may be they have evidence against them. Both can be true.

Q9. Why are only Muslim organizations expected to condemn attacks after any terrorist activity? So the Ulema, Muslim organizations are in the forefront of condemnation. What about the Hindu (not Hindutva) organizations, Shankracharyas and Gurus? Are they also expected to issue statements? Are Muslims living under the shade of fear that they are forced to issue statements of condemnation?

I have seen some of these Acharyas even "boasting" about acts of Dara Singh or attack on Christians.

Q10. Why Muslims are not able to easily believe the result of an investigation or arrests? Why have they lost faith in the state?

Forget muslims, even others DONT believe them these days.

Q11. Independent teams that investigated blasts in Nanded and Malegaon have pointed to some organizations… why aren't security agencies looking at those organizations? The truth of the attack on the RSS headquarters is also out, then why isn't anyone investigating at these organizations?

In India, it is hard to crack down a "Political" organization. Like it or not, but that is a bitter truth

Q12. How many of us attempt to know about those youths who were arrested just because they know Arabic, or they traveled with the Tablighi Jamat, they study in a Madrasa, or they started taking more interest in their religion… or simply their names connect them to a particular religious community.

I never attempted.

Q13. If some youth of a particular religion are involved in terror activities then what went wrong in this country that is encouraging them to move over to the wrong side of the law…. Only the lust of money is not enough for this… why did all this not happen 15 years ago…when terrorism in Punjab and Kashmir was at a peak.
Good that you have talked of Punjab?
[Out of your question-context]
Do you have any idea how police dealt with terrorists in Punjab? Ruthlessly. Even more ruthlessly than the intrinsic ruthlessness of the word ruthless. Their were Human Riots violations, police stormed Gurduwaras, they killed youths in Punjab even on slight suspicion. And we all know the result. Yes, we have seen all the heads of this operations against terrorists in Punjab being killed (except for KPS gill (KILL)m Beant Singh, Indra Gadnhi, Army chief Malik all were killed in due course) . But we saw police acting ruthlessly and terrorism subsiding.
Sadly, with all the reported HR violations in Kashmir, Army was never as ruthless as compared to Punjab

Allah Hafiz
Aminur

Farid Khan

किसी भी आतंकवादी संगठन के बनने की एक वजह होती है .... और उसका एक लक्ष्य होता है.....इस बात को कोई भी जाहिल समझता है लेकिन पढे लिखे मीडियाकर्मी और सरकार चलाने वाले लोग नहीं जानते... जाहिल होना ज़्यादा हितकारी है भारत के लिए।
अब जब समाचारों में धमाकों की ख़बर आती है मै समझ जाता हूँ कि मुसलमानों पर गाज गिरने वाली है...। और वह गिरती है...
मैंने अपने ख़ानदानी संस्कारों के विरुद्ध जा कर सांप्रदायिक आधार पर अलगाववादी आतंकवादी संगठनों की गिनती शुरु की... लिट्टे... मुसलमानों का संगठन नहीं है। ये भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं। बोडो उग्रवादी... ये भी मुसलमानों का संगठन नहीं है और भारत से अलग होना चाहता है। आन्ध्र प्रदेश के नक्सल... ये भी मुसलमानो के संगठन नहीं हैं और ये तेलंगाना देश बनाना चाहते है... भारत से अलग हो कर।
और तो और पूरी बेशर्मी का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए बीजेपी ... एक मस्जिद को भावना के नाम पर ध्वस्त कर देती है... ये भी मुसलमानों का संगठन नहीं...
तो क्या हम ये कह दें कि इस देश में मात्र हिन्दू आतकंवाद ही सक्रिय है? क्यों कि इन सब का एक कारण है और लक्ष्य भी है।
लेकिन हम इसे हिन्दू आतंकवाद का नाम नहीं देंगे क्योंकि हम धमाकों का धर्म नहीं देखते...
किसी साहब ने अब्दुल कलाम को बतौर मुसलमान सम्मान दिया है... जबकि मेरी नज़र में वह एक विध्वंसकारी बम निर्माता है और कुछ नहीं लेकिन हिन्दूवादी शक्तियाँ ऐसे ही मुसलमानों पसंद करती हैं जो विध्वंस कर सकें.... और इसीलिए धमाकों की निन्दा हिन्दूवादी संगठन(संघी समाज) नहीं करते...

Sanjeet Tripathi

सही सवाल!!
मैं अपने आप को विष्णु बैरागी जी के साथ खड़ा हुआ पा रहा हूं॥

avam manch

Aminur
first, i congratulate you for raising questions within questions.
i feel, this post is just to reveal certain questions which are obvious and is only a tip of iceberg. these are only few questions which one should ask to him/herself there are thousands of such questions.
i am surprised to see a continuous line of doubt reflected in the form of 'MAY'(not less than 5 times u have used). it seems you are trying to find answers within the questions itself and in doing this you are considering them answers which actually are questions; valid and validly asked questions.
while there are so much of doubt i feel the benefit of doubt should go in favour of the innocent and not against them, which is what is happening.
the onus is high for whom, whose responsibilty/accountability is high.

Nasirrudin saheb
thanks for raising the obvious.
KABHI KABHI JAWAB SE ZYADA SAWAL AHMIYAT RAKHTE HAIN
nadim nikhat

(टिप्पणी करने से पहले ऊपर दायें में पोस्ट एक गुज़ारिश को ज़रूर पढ़ लें।)
Technorati Tags: , , , , , , ,

Comments

Mired Mirage said…
Nasiruddin

ये सवाल उठाने पड़ रहे हैं यह खुद दुख की बात है।... बिना और समय गंवाए इन विषयों पर चर्चा होनी चाहिये ।
घुघूती जी, इस पोस्ट का मकसद यही है कि हम सब मिलकर सोचें कि आखिर ऐसा क्या हो गया। आखिर ऐसा क्या हो गया जिसकी कल्पना घुघूती बासुती जैसे लोगों ने सालों पहले नहीं की थी।

मेरा उत्तर है , जो गलत भी हो सकता है .....
घुघूती बासूती
हो सकता है मैं गलत हूँ पर ऐसा क्या हो गया का उत्तर है ..........
लोग तो वही हैं जो पहले थे । पहले केवल कुछ लोग राजनीति में सफल होने के लिए पतित से पतित रास्ते उपयोग करते थे । अब केवल कुछ लोग ही ऐसा नहीं करते हैं । हम मनुष्य जीवित मनुष्य या समाज न होकर एक वोट बैंक हो गये हैं,जिसे किसी भी हालत में अपने पक्ष में लाना है । हमें खरीदा जा रहा है और हम बिक रहे हैं । हम, इस स्वतंत्र दे के स्वतंत्र नागरिक !
हमारी पीढ़ी के बहुत से लोगों को केवल यह पता था कि अलग अलग धर्म के लोग होते हैं , उनके तीज त्यौहार, रहन सहन, खान पान में कुछ भिन्नता भी होती है । पर हैं सब भारतीय । और किसी से भी मित्रता करने का आधार धर्म नहीं होता ।
हम सोचते थे धर्म , जाति आदि से कोई अन्तर नहीं पड़ता ।
हमने अपने माता पिता से बँटवारे की भयंकर पीड़ा के बारे में सुना था । हम नहीं चाहते थे कि वह फिर दोहराई जाए ।
हममें से बहुत को यह पता नहीं था कि किस सरनेम से किस जाति का परिचय होता है । हमारे बच्चों को तो बिल्कुल नहीं था । फिर एक दिन श्री वी पी सिंह जी ने सबके ग्यान चक्षु खोल दिये । कैसे, यह किस्सा फिर कभी ।
इसी तरह से या उकसा कर, या डराकर कि तुम्हारा प्रान्त, सभ्यता, संस्कृति , जाति, धर्म, वर्ग खतरे में है और यदि हमारा साथ दोगे या यह उत्पात मचाओगे तो प्रान्त, सभ्यता, संस्कृति , जाति, धर्म, वर्ग बच जाएँगे । या यह बताया जाता है कि कैसे तुम्हारे या हमारे साथ अत्याचार हो रहा है और उसे समाज व सामान्य जिन्दगी से और भी दूर कर दिया जाता है ।
मैं, आप और वे सब सोचते हैं कि यह मेरी समस्या नहीं है । समस्या तो हमारी ही है । जो मर रहे हैं , जो घृणा की आग में अपना यौवन , जिस पर उनका सारा जीवन टिका है , बर्बाद कर रहे हैं , आग में झौंक रहे हैं, वे हमारे ही बच्चे, बच्चियाँ , भाई , बहन हैं, हमारे देश व संसार का भविष्य हैं । मुझमें भी इतनी हिम्मत नहीं है कि मैं आतंक , भय, घृणा से लड़ सकूँ , पर मैं या आप इतना तो कर सकते हैं कि इन सबको बढ़ाएँ नहीं , हो सके तो इनके घावों में अपने प्रेम, सद्भावना का मलहम लगाएँ ताकि कोई नया नक्सलवादी, आतंककारी हमसे निराश होकर ना बने, पैदा हो ।
कभी कभी गल्ती भी हो जाती है, हमसे , नेताओं से और सबसे । ऐसे में यदि हम अपनी गल्ती को मानकर भूल सुधार लें, तब भी बहुतों के मन में जलती चिन्गारियाँ बुझ जाती हैं ।

घुघूती बासूती