तीस साल बाद स्याह यादें

(अभी सन 84 के दंगों को लेकर काफी हंगामा बरपा था। जिस पार्टी को जो आसान और सुविधाजनक लगा, उसने 84 के दंगा और पीडि़तों का अपने तरीके से इस्तेमाल किया। लेकिन इस मुल्क ने सत्तर और अस्सी के दशक में कुछ और भयानक दंगे देखे हैं, उन्‍हें कोई याद नहीं रखना चाहता। उसके लिए कोई हो हल्ला भी नहीं मचता। ऐसा ही एक दंगा था, जमशेदपुर का। मैंने भी दंगा पीडि़तों को पहली बार इसी दंगे के जरिए जाना था। समाचार वेबसाइट टूसर्किल्स डॉट नेट के सम्पादक काशिफ उल हुदा उस वक्त पाँच साल के थे और दंगे में बाल-बाल बच गए थे। उस दंगे के तीस साल बाद यह बच्‍चा अपने बचपन के उन काली स्‍याह यादों को ताजा कर रहा है। इसलिए नहीं कि आप सियापा करें। इसलिए कि ऐसी यादें कितनी खौफनाक होती हैं और उनका असर ताउम्र होता है। तो क्या हम अपनी आने वाली पीढ़ी को भी ऐसी ही खौफनाक यादें देकर जाना चाहते हैं। यह टिप्‍पणी मूल रूप में अंग्रेजी में लिखी गई है। इसे हिन्दी में सिटिजन न्यूज सर्विस ने तैयार किया है। मैंने उस हिन्दी अनुवाद में थोड़ा संशोधन, थोड़ा सम्पादन किया है।-नासिरूद्दीन)

1979 के जमशेदपुर के दंगों की याद
काशिफ-उल-हुदा

1979 के इसी अप्रैल महीने में बिहार के जमशेदपुर में हिन्दू-मुस्लिम फसाद हुए थे। इस फसाद में  108 लोगों की जानें गयीं थीं. यह  तादाद 114 भी हो सकती थी, लेकिन खुशकिस्‍मती से मेरा खानदान किसी तरह बच गया. शायद इसलिए हम आज 30 साल बाद उस दिल दहला देने वाली घटना को बयान करने के लिए जिंदा हैं.

मैं पाँच साल का था जब यह दर्दनाक हादसा हुआ। लेकिन इस हादसे की याद मेरे दिलो-दिमाग में गहरे पैठी है। मेरे बचपन की चंद यादों में एक अहम याद है. आज इस हादसे की डरवानी तसवीर मेरी आँख के सामने घूम रही है.

11 अप्रैल 1979 के दिन सुबह से ही फिजा में कुछ अनहोनी की बू आ रही थी. पता नहीं कैसे, लेकिन मेरी अम्मा ने इस खराब हवा को सूँघ लिया। रामनवमी की सुबह वह अपने भाई और मेरी दो छोटी बहनों के साथ पास के मुसलमान बहुल इलाके, गोलमुरी में चली गईं. लेकिन मेरे अब्‍बा के खयालात काफी अलग थे। उन्हें पूरा यकीन था कि कुछ नहीं होगा. उन्होंने कॉलोनी के हिन्दुओं और मुसलमानों को मिलाकर एक कमेटी बनाई थी। उन्हें भरोसा था कि बलवाई चाहे हिन्दू हों या मुसलमान, कमेटी ढाल का काम करेगी। हिन्दू-मुसलमान सब मिलकर रहेंगे।

अब्बा के साथ मैं और मेरे बड़े भाई रुक गए। अम्मा और बहनें सुबह ही गोलमुरी जा चुकी थीं. लेकिन जैसे-जैसे दिन गुजरने लगा, हमने देखा वैसे-वैसे बाहर लोगों की भीड़ बढ़ रही थी. भैया घबराने लगे, कहीं कुछ हो गया तो। दोपहर के खाने के वक्त तक हमने अब्बा को किसी तरह मना लिया कि वह हम दोनों को अम्मा के पास गोलमुरी छोड़ आएँ.

जब हम लोग गोलमुरी में अपने रिश्तेदार कमाल साहब के घर खाना खा रहे थे, तब ही यकायक लोगों के चिल्लाने की आवाजें आयीं... यानी बलवा शुरू हो गया.

यह देखने के लिए की क्या हो रहा है, हम लोग भाग कर बाहर तरफ आए. देखा कि कुछ ही दूरी पर जबरदस्त धुआँ  उठ रहा था. इसके बाद की मेरी यादें, टुकड़ों- टुकड़ों में ही है. मुझे याद है कि हम जिस घर में रह रहे थे, वहाँ पर सिर्फ़ औरतें और बच्चे थे. मुझे यह याद है कि मैं वहाँ खाना नहीं खाना चाहता था क्योंकि वह कच्चा ही रह जाता  था. मैं इतनी छोटी सी उम्र में रिफ्यूजी बन गया था. कच्ची उम्र में ही रिफ्यूजी होने का तजुर्बा. मुझे आज भी याद है कि रात के अंधेरे में जब मैं छत पर जाता, तो मुझे चारों ओर आग की लपटें दिखाई देतीं मानो पूरा शहर ही जल रहा हो. मुझे यह भी याद है कि कोई मुझे छत पर जाने के लिए डाँट रहा था. क्योंकि छत पर मैं आसानी से किसी बलवाई की गोली का निशाना बन सकता था. मुझे यह भी याद है कि मैं अपने अब्बा से बहुत दिनों तक कम ही मिल पाया था. मैं बहुत सहमा-सहमा रहता था.

कई साल बाद मुझे पता चला जब हिन्दू-मुसलमानों की संयुक्‍त कमेटी में शामिल ज्यादातर हिन्दू इलाका छोड़ कर जा रहे थे तो जमशेदपुर के टिनप्लेट इलाके में हमारा घर ही आस पड़ोस के मुसलमानों का शरण गाह बना हुआ था।

उस दिन मेरे अब्‍बा कुछ जरूरी सामान देने के लिए गोलमुरी आए। जब तक वापस जाते तब तक कर्फ्यू लग गया था. वह वापस नहीं जा सके. इस बीच टिनप्लेट इलाके में रह रहे मुसलमानों ने देखा कि वह हर ओर से घिर रहे हैं. वे टिनप्लेट फैक्ट्री में मदद माँगने पहुँचे. लेकिन यह क्‍या... वहाँ पर रोज साथ काम करने वाले उनके साथियों ने ही उन्‍हें बर्बरतापूर्वक मार डाला. मेरे अब्‍बा सिर्फ़ इसलिए आज हमारे बीच हैं क्योंकि कर्फ्यू लग जाने की वजह से वह गोलमुरी से टिनप्लेट वापस नहीं जा सके थे.

हालाँकि हमारी जान बच गई थी लेकिन हमारे घर का सारा सामान लुट गया था. बाकि लोगों का सब सामान जला कर राख कर दिया गया था. महीनों बाद हम सब एक नए इलाके में रहने के लिए गए. इसका नाम था अग्रिको कॉलोनी. यह कॉलोनी जो मुसलमानों की एक और बस्ती भालूबासा के सामने थी. कमरों में नई नई पुताई हुई थी पर यह पुताई भी उस वहशियाना आग और लूट के दाग नहीं छुपा पा रही थी.  हमें यह तो नहीं पता था कि इन घरों में किसी की हत्या हुई थी या नहीं पर तबाह के निशाँ साफ़ दिख रहे थे.

अगले कई सालों तक मुझे कई लोगों से इस दंगे की दिल-दहला देने वाली आप बीती सुनने को मिली. मुझे एक महिला की याद है जिसके शरीर पर जलने के निशाँ थे. यह महिला उस एम्बुलेंस में सवार थी, जिसे दंगाइयों ने आग के हवाले कर दिया था.   दंगाई यह सोच कर आगे बढ़ गए थे कि इसमें सवार सभी लोग मारे गए हैं. हर रोज स्कूल जाते वक्‍त हम पुलिस स्टेशन के बाहर खड़ी इस जली एम्‍बुलेंस को देखते थे.

मारे गए 108 लोगों में से 79 मुस्लमान और 25 हिन्दू थे.  बड़ी तादाद में लोग जख्मी हुए थे और अनेकों ऐसे थे जिनका सब कुछ खत्म गया था.

जमशेदपुर,  उद्योगों की नगरी है.  यहाँ हर ओर टाटा की फैक्ट्री है. इस शहर में रहने वाले ज्‍यादातर लोग इन फैक्ट्रियों में ही काम करते हैं. पूरे शहर का जिम्मा कम्पनी पर है. कम्पनी के क्वार्टर में हर मजहब के लोग रहते आए हैं.

यह समझ से परे है कि ऐसा दुर्भाग्यपूर्ण और बर्बर बलवा उस शहर में हुआ जहाँ हर जाति-धर्म- भाषा के लोग मिल्लत के साथ रहते थे.  यहाँ रह रहे ज्यादातर लोग या तो अविभाजित बिहार के रहने वाले थे या देश के किसी और कोने से. सभी कंपनी में काम करने वाले मध्यवर्ग के लोग थे और अपने परिवार के लालन पालन में लगे थे.  ऐसा भी नहीं है कि जमशेदपुर के दंगों में सिर्फ़ मुसलमान ही मरे थे, बल्कि हिन्दू भी मारे गए थे.  तब  आख़िर इन दंगों का फायदा किसको मिला था?

तीस साल पहले जिस आदमी ने उस दिन पूरे जमशेदपुर को अपने कब्‍जे में ले लिया था, वह था स्थानीय विधायक दीनानाथ पाण्डेय.  इस दंगे के बाद पाण्डेय दो बार भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर भी बिहार विधानसभा पहुँचा. भारतीय  जनता पार्टी के प्रत्याशी के रूप में वह 1990 तक चुनाव जीतता रहा. उसकी सीट भारतीय जनता पार्टी के लिए 'सुरक्षित'  सीट बन गई. विधानसभा के पिछले दो चुनाव में, भारतीय जनता पार्टी इस सीट से 50 प्रतिशत से भी अधिक वोट से जीती है.

अब लोकसभा चुनाव हो रहे हैं.  जब हम यह टिप्पणी करते हैं कि राजनीति में गुंडे या अपराधी पृष्ठभूमि के लोग आ गए हैं,  तो हम यह भूल जाते हैं कि इसके लिए भी हम लोग ही जिम्मेदार हैं.  दीनानाथ पाण्डेय जैसे लोग का, जिनपर सामूहिक हत्या का आरोप है, राजनीति में कोई स्थान नहीं होना चाहिए. जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार को चुनाव लड़ने से रोक कर कांग्रेस ने सराहनीय काम किया है। लेकिन यह वही पार्टी है जिसके शासन में आंध्र प्रदेश में आतंकी होने के आरोप में मुसलमान युवाओं को गैर कानूनी तरीकों से गिरफ्तार किया गया। यही नहीं पुलिस ने उनसे जुर्म कबूलवाने के लिए टार्चर किया। महीनों बाद भी जब पुलिस अपना आरोप साबित न कर सकी तो हाल ही में ये बेगुनाह नौजवान रिहा कर दिए गए हैं।  सत्ताधारी तब तक कोई भी बेहतर कदम नहीं उठाते हैं, जब तक लोग अपना आक्रोश जाहिर न करें और जन दबाव न बनाएँ. इसलिए नाइंसाफी के खिलाफ लोकतांत्रिक तरीके जन दबाव बनाना जरूरी है। 

अगर पार्टियों ने वक्त रहे सख्त कदम नहीं उठाए और अपराधियों को टिकट देना जारी रखा तो हम लोगों को कदम उठाना चाहिए। हम लोगों को ऐसे उम्मीदवारों को वोट नहीं देने का फैसला करना चाहिए जो नफरत फैलाते हैं और अपराधिक पृष्ठभूमि के हैं।

(लेखक समाचार वेबसाइट www.twocircles.net के संपादक हैं)

यहाँ भी नजर डालें-

  • मशहूर पत्रकार एमजे अकबर ने अपनी पुस्‍तक Riot After Riot में जमशेदपुर दंगे के बारे में क्या लिखा है। यह पढ़ने के‍ लिए यहाँ क्लिक करें।
  • जमशेदपुर दंगे की जाँच रिपोर्ट रिपोर्ट के अंश

Jamshedpur, April 1979
Toll: 108 (Muslims: 79; Hindus: 25)
Probe: The Jitendra Narain Commission of Inquiry

In 1978, a Ram Navami akhara was established in Jamshedpur's tribal Dimna Basti. The mission noted: [This is, by itself, a significant development, indicative of some design, considering that the Adivasis, not being Hindus, did not perform Hindu religious worship...] Sonaram Manjhi, a tribal, sought permission to take out a Ram Navami procession through Road 14, which passed through a Muslim area. The local administration refused permission.

The controversy surfaced again the following year. RSS leader and MLA Dina Nath Pandey led the city's various akhara samitis in insisting upon taking the procession through Road 14. On April 7, pamphlets were distributed asking people to assemble near Road 14 at 11 am on April 11, and forcibly take out the procession. On April 10, the administration persuaded Muslim leaders to agree to the procession taking Road 14.

On April 11, the administration managed to get the procession to start early, and it passed Road 14 without incident. But Pandey suddenly arrived and stalled the marchers, warning that they wouldn't move until BK Trivedi, who had been arrested a few days earlier, was released from judicial custody.

By 11 - the time notified in the pamphlet - a huge crowd had gathered near Road 14. Most were armed. The procession then moved into the adjoining Muslim area. Some stone-throwing sparked off bloody rioting.

"The chain of events...provided the occasion for the anti-socials amongst the Muslims to assert themselves and assume the leadership of the community," opined the commission. On March 31 and April 1, the RSS divisional conference in Jamshedpur was addressed by the then chief Balasaheb Deoras.

The commission quoted Deoras extensively and said: "...the speech of Shri Balasaheb tended to encourage the Hindu extremists to be unyielding in the demands regarding Road 14. Secondly, his speech amounted to communal propaganda. Thirdly, the Shakhas and camps held during the conference presented a militant atmosphere to the Hindu public. In the circumstances, the commission cannot but hold the RSS responsible for creating a climate for the disturbances that took place on the 11th of April, 1979 and thereafter..."

The commission also believed that the akhara samitis in Jamshedpur were controlled by the local RSS leadership. (Various commissions have commented on the RSS's links with organisations which are floated for specific causes, and which have played dubious roles in communal riots.)

The commission concluded: "Dina Nath Pandey was a member of the RSS, his actions followed a line which was in fulfilment of the general scheme of the Hindu communalists of Jamshedpur, and they were also aimed at achieving the plan announced in the leaflet circulated by them. His conduct had thus directly contributed to the outbreak of the riot..."

Significantly, the commission said the riot was fomented to consolidate the political objectives of the Jan Sangh, forerunner of the BJP. On Pages 103-104, its report makes a detailed analysis of the "true intentions" of the Jan Sangh in the context of the collapse of the Janata Party and emergence of the BJP.

The commission concluded: "...the RSS played their role in this matter, motivated by the long-term political objective of gaining strength for their political wing, simultaneously with propagating their doctrine..."

Jamshedpur, April 1979
Toll: 108 (Muslims: 79; Hindus: 25)
Probe: The Jitendra Narain Commission of Inquiry
(Courtesy: The Hindustan Times, March 12, 2000)

Comments

Ravi said…
आज काफी कुछ नया नया सुना!
वरना हम तो बिहार के गुंडों में तस्लीमुद्दीन और शहाबुद्दीनों के नाम ही सुनते रहे हैं, आरोपियों में लालूओ और उसके कुनबे का नाम ही सुनते रहे हैं!

ये भी पता चला कि 1979 में भी हिन्दू मुसलमानों के बीच झगड़े होते थे, वरना कांग्रेसी और लालू जैसे "बेशर्मनिर्पेक्षों" का कहना है कि हिन्दु मुसलमानों के बीच दंगो की शुरूआत अडवानी की रथ यात्रा के बाद हुई. हम तो सोचते थे कि इंदिरा माता और नेहरू चाचा के राज में हर ओर चैनो अमन होता होगा, लोग भरपेट खाकर सुख की नींद सोते होंगे!
हम तो मुगालते में थे!

अपका कहना है
"जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार को चुनाव लड़ने से रोक कर कांग्रेस ने सराहनीय काम किया है"
पहले कांग्रेस ने इनको टिकट देते कर और मंत्री बनाकर कौन सा काम किया था?
अगर जरनैल का जूता कांग्रेस के ऊपर न पड़ता तो क्या कांग्रेस को यह "सराहनीय" काम करने की याद आती?

इन बेईमानों का इलाज जूता ही है
दीनानाथ पांडेय जैसो का भी
तस्लीमुद्दीनों, शहाबुद्दीनों, डीपी यादवों का भी
जो इनको टिकट देते हैं उनका भी

मारो जूता तान के
हर इक बेईमान के
ye yaadein bahut khatanaak hoti hai...maine hashimpura ke dange apni aankho se dekhai hai...uske baad us par hui rajniti bhi dekhi....kya kahen.....koun sunta hai yaha....
क्या बात है कि 'डायरेक्ट ऐक्शन' वाला दंगा इतनी आसानी से भूल गये?

पूरे काश्मीर से हिन्दू भगा दिये गये, उसे भी भूल गये।

पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिन्दुओं-सिखों का सफाया कर दिया गया - उसे भी भूल गये।

लगता है आप सच्चे-मुसलमान हैं।
Bobby Ramakant said…
नासिर भाई,
पहले तो बहुत बहुत धन्यवाद कि आपने इस अनुवाद को अपने विशिष्ठ संपादन से यह शक्ल दे दी है, जो काशिफ भाई के अंग्रेजी में लिखे हुए लेख के अनुकूल है.

इस बात में कोई संदेह नहीं है कि जो लोग सांप्रदायिक राजनीति कर रहे हैं, उनकी लोकतंत्र में कोई जगह नहीं होनी चाहिए. ताज्जुब मुझे यह होता है कि यह लोग आखिर कब तक चुनाव में जीत जीत कर आते रहेंगे? उम्मीद है कि लोग जागरूक होंगे और इनकी भड़काऊ भाषणों में नहीं आयेंगे.

शायद यह सच नहीं है कि कांग्रेस ने नैतिक तौर पर जगदीश टाईलर और सज्जन कुमार को कांग्रेस का टिकेट देने से मना कर दिया है, यह तो आम लोगों का आक्रोश सड़क पर उतर आया था और आगामी चुनाव में कांग्रेस को इसका परिणाम मिल सकता था जिसके कारणवश उसको मजबूरन जगदीश टाईलर और सज्जन कुमार को चुनाव लड़ने से मना करना पड़ा.

अब यह सिलसिला टूटना नहीं चाहिए, और हर स्तर के चुनाव से अपराधिक पृष्ठभूमि के लोगों को और वोह जोह सांप्रदायिक राजनीति कर रहे हैं या दंगों के लिये जिम्मेदार रहे हैं उनको, चुनाव से बेदखल कर देना चाहिए. चुनाव आयोग, न्यायालय, या संविधान आदि द्वारा यह सुनिश्चित करना होगा जिससे कि आपराधिकपृष्ठभूमि वाले लोग और सांप्रदायिक राजनीति करने वाले लोग, देश की हर स्तर की राजनीति से बेदखल हो जाए.

नासिर भाई, आपने जबरदस्त टिपण्णी की है कि यह हादसा इस लिये नहीं याद किया जा रहा है कि हमसब सियापा करें बल्कि इसलिये क्योंकि ऐसे हादसे कितने भायावाही और खतरनाक हो सकते हैं, और उनका असर ताउम्र रहता है. यह इस बात का भी प्रमाण है कि ऐसे बर्बर और नृशंस हादसे एक बच्चे पर किस तरह से छाप छोड़ जाते हैं.
Bobby Ramakant said…
इस लेख पर टिप्पणियां पढ़ कर यह अच्छा लगा कि मूलत: हम सब अपनी जिंदगियों में और राजनीति में भी अपराधिक पृष्ठभूमि के लोगों को और जो धर्म के नाम पर लड़ने वाली भड़काऊ बातें करतें है उनसे दूर ही रहना पसंदकरेंगे

रवि भाई, आपकी बात सही है कि कांग्रेस ने जगदीश टाईलर और सज्जन कुमार को नैतिक रूप से विवेश हो कर नहीं निकला बल्कि क्योंकि बात आपे से बाहर हो गयी थी और लोग सड़क पर उतर आये थे, और मीडिया ने इस मुद्दे को (भारत के गृह मंत्री को मारा गया जूता) राष्ट्रीय स्तर पर उछाल दिया था, कांग्रेस यदि इनको चुनाव् से बाहर नहीं करती तोचुनाव में बहुत भारी परिणाम झेलती.

हालाँकि में इस बात से सहमत नहीं हूँ कि बाबरी मस्जिद के बाद हिन्दू मुस्लिम दंगों में कोई फर्क नहीं आया है, बल्कि मैं तो यहीं कहूँगा कि बाबरी मस्जिद के दंगों तक मैंने कभी अपने ही घर में मुसलमानों के प्रति नफरत भरी बातें नहीं सुनी थी - गनीमत है कि संदीप भाई का सानिध्य था कि में उनसे अनभिज्ञ रहा. बाबरी मस्जिद का गिराना, परमाणु परीक्षण करना, गुजरात के नृशंस दंगे, और अमरीका के 'वार ऑन टेरर' में भारत का बिना निमंत्रण ही शामिल हो जाने से आतंकवादी हमलों में और सम्प्रदिक राजनीति में दोनों में भीबढ़ाव आया है.

बाबरी मस्जिद गिरने के पहले यदि लखनऊ के लोगों को याद हो तो मोटे तौर पर सब शांतिपूर्ण था. बाबरी मस्जिद जब गिरी तो यहाँ के जिलाधिकारी को तक बन्दूक ले कर सड़क पर उतरना पड़ा था.

अनुनाद जी, आपकी टिपण्णी से हमसब सहमत हैं और उतना ही कश्मीर में सामाजिक न्याय कायम करना चाहते हैं जितना कि आप. परन्तु यह पढ़ कर कष्ट होता है कि इस लेख को आप एक धर्म से जोड़ रहे हैं. बात हिन्दू या मुसलमान होने कि नहीं है, बात सिर्फ इंसान होने की है. इक इंसान की तरह जब हम यह सोचे कि एक ५ साल के बच्चे पर जमशेदपुर दंगे का क्या असर पड़ सकता है, तो संभवत: बेहतर होगा. बच्चे का धर्म महत्त्व का नहीं है क्योंकि मेरा मानना है कि हम सब शांतिपूर्ण ढंग से मिलजुल कर ही रहना चाहते हैं और जब कोई आसरा नहीं बचता तब ही हिंसा और नफरत का इस्तेमाल करते हैं.
varsha said…
मैं इतनी छोटी सी उम्र में रिफ्यूजी बन गया था. कच्ची उम्र में ही रिफ्यूजी होने का तजुर्बा...aise tamam tjurbon ki buniyad bananewali siyasat ko rokne ka yahi samay hai.
हमारे देश में दंगों का इतिहास काफी पुराना है और सबसे खतरनाक दंगा तो देश विभाजन के समय हुआ। सवाल यह नहीं है कि दंगा फैलाता कौन है? वह हिन्दू है या मुसलमान। बात यह है कि हम क्यों अभी तक जाति, धर्म, क्षेत्र और भाषा से ऊपर नहीं उठ पाएं हैं। आमतौर पर पढ़े-लिखे आदमी को हम समझते हैं कि वह उदार होता है। कट्टरपंथी नहीं होता है। लेकिन इतिहास गवाह है कि देश के भद्र कहे जाने वाले लोगों ने ही अपने लाभ के लिए समाज विरोधी गतिविधियों को अंजाम दिया है। सबसे अच्छा उदाहरण जिन्ना हैं और दूसरे भाजपा के पीएम इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी जिन्होंने अयोघ्या विवाद के लिए सोमनाथ रथ यात्रा से देश में दंगों को भड़काया। इस ब्लॉग को पढ़कर हमसभी को अपने अंदर झांकना चाहिए की क्या हम खुद इमानदार है?जाति,धर्म,संप्रदाँय,भाषा और क्षेत्र से ऊपर उठ चुके हैं? अगर नहीं तो फिर हमसभी दंगों के लिए जिम्मेदार हैं।
नसीरऊद्दीन साहब काफ़ी दिनों बाद आपको पढा इन्शाल्लाह आगे आता रहूंगा....आपकी बात सही है....बाबरी के बाद का दंगा मैने देखा था उस वक्त मेरी उम्र सिर्फ़ सात साल थी........Bobby जी कि बात से सहमत बाबरी के बाद लोगों के दिलों में नफ़रत बहुत बढ गयी है और इस आग में घी का काम किया है....जेहाद के नाम से होने वाले आंतक ने...

अभी ज़रा ज़रुरी काम आ गया है इस्लिये बाकी बात बाद में.....

ईदुल अज़हा की बहुत बहुत मुबारकबाद....अल्लाह आपकी और आपके घरवालों की कुर्बानियों को कुबुल फ़र्मायें.........

बकरीद के ताल्लुक से एक लेख लिखा है इसमें सारी जानकारी है......

http://qur-aninhindi.blogspot.com/2009/11/matters-compulsory-works-of-bakrid-eid.html
काशिफ भाई! टीनप्लेट कम्पनी के मकान को भीतर से मिलाकर कैसे रातोंरात मस्जिद तैयार किया गया- थोड़ा इसपर भी प्रकाश डालिये। मुसलमानों को यह पता था कि इस अवैध ठंग से बने मस्जिद में पढ़ी गई नमाज कबूल नहीं होती पर वे नमाज पढने आते रहे।
आपने यह भी देखा होगा कि हिन्दुओं ने कैसे कम्पनी को धोखा देकर बगल में ही काली पूजा पंडाल को मन्दिर में बदल दिया। इस अवैध मन्दिर में हजारों हिन्दू पूजा करने आते हैं। किसी को आपत्ति नहीं है। विनाश के तत्व वहीं छिपे बैठे है जहाँ अपनों के प्रति आदर और आस्था तथा दूसरों के प्रति अविश्वास है। जहाँ साधन की पवित्रता का कोई मतलब नहीं है। आदमी को व्यस्त रहने के लिये सकारात्मक चीजें नहीं मिलेंगी तो नकारात्मक चीजें चली ही आयेंगी।
काशिफ भाई! टीनप्लेट कम्पनी के मकान को भीतर से मिलाकर कैसे रातोंरात मस्जिद तैयार किया गया- थोड़ा इसपर भी प्रकाश डालिये। मुसलमानों को यह पता था कि इस अवैध ठंग से बने मस्जिद में पढ़ी गई नमाज कबूल नहीं होती पर वे नमाज पढने आते रहे।
आपने यह भी देखा होगा कि हिन्दुओं ने कैसे कम्पनी को धोखा देकर बगल में ही काली पूजा पंडाल को मन्दिर में बदल दिया। इस अवैध मन्दिर में हजारों हिन्दू पूजा करने आते हैं। किसी को आपत्ति नहीं है। विनाश के तत्व वहीं छिपे बैठे है जहाँ अपनों के प्रति आदर और आस्था तथा दूसरों के प्रति अविश्वास है। जहाँ साधन की पवित्रता का कोई मतलब नहीं है। आदमी को व्यस्त रहने के लिये सकारात्मक चीजें नहीं मिलेंगी तो नकारात्मक चीजें चली ही आयेंगी।